Tags

, , , , , , ,

यह है दिल्ली मेरी जान ।
राजनेताओं और बाबुओं की नगरी,

जिनके बच्चे पूछते हैं,

जानता नहीं मेरा बाप कौन है ?
यह है दिल्ली मेरी जान ।
पैसे वालों, बड़ी गाड़ियों, बंगलो की नगरी,

जिनके बच्चे भी पूछते हैं,

जानता नहीं मेरा बाप कौन है ?
यह है दिल्ली मेरी जान ।
अधिक पढ़े लिखे बौद्धिक, समाजवादियो का शहर,

राजनेताओं,बाबुओं और धनी के बच्चों के प्रश्न का उत्तर देने के प्रयास में व्यस्त,

बाप का नाम बताने में और बाप की अतिकृपा पर पलने वालों,

मोमबत्ती मार्च के विशेषज्ञ, दोहरे मानक रखने वाले पाखण्डीयों की नगरी ।
यह है दिल्ली मेरी जान ।
मध्यम आय वर्ग की चाहतों की नगरी,

मेट्रो की भीड़ में धक्के खाते सपने, 

सड़क किनारे चाय,मोमोस और सिगरेट के धुएँ में उड़तीं आकाँक्षाए,

प्रतियोगिता में उत्तरजीविता की दिनचर्या में उलझते जीवन ।

यह है दिल्ली मेरी जान ।
और कुछ लोग ऐसे भी, एक छत और दो रोटी के मोहताज,

सपने देखते हैं पर जानते हैं की पूरे नहीं होंगे, चाहतें दिल में ही रह जाएँगी,
दूसरी दुनिया से बेख़बर, हर दिन जीवन से संघर्ष की नगरी।
यह है दिल्ली मेरी जान ।
कट,कॉपी,पेस्ट और फ़ॉर्वर्ड में मग्न विरोधाभास और विडंबनाओ की यह है दिल्ली मेरी जान ।
                                                          रवि

Advertisements